अरिंदम जाना

आप यहां हैं: होम > हमारे बारे में > कोर टीम > अरिंदम जाना

Arindam jana

सहयोगी – अकादमिक कार्य एवं शोध
ajana at iihs dot ac dot in

शिक्षा:
एमएस.सी. अर्थशास्त्र, मद्रास स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, अन्ना यूनिवसिर्टी;  बीएस.सी गणित, मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज, मद्रास विश्वविद्यालय


अभ्यास (प्रैक्टिस):

अरिंदम ने मद्रास स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में एक इंटर्न के तौर पर गरीबी सूचकांक की दुर्बलता विकसित करने पर काम किया, जिसका एक हिस्सा बाद में उनका शोध-प्रबंध (थीसिस) बन गया। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय में गणित विभाग के साथ भी इंटर्न के तौर पर काम किया जहाँ उन्होंने पारंपरिक कला रूपों को डिकोड करने के लिए ग्राफ सिद्धांत को लागू कर नेत्रहीन छात्रों के लिए गणितीय शिक्षण सहायक उपकरण बनाए।

अपनी मास्टर्स की डिग्री के बाद, अरिंदम ने नाथन इकोनॉमिक कंसल्टिंग, इंडिया में एक अर्थशास्त्री और अनुप्रयुक्त सांख्यिकीविद् (अप्लाइड स्टैटिशियन) के रूप में अपना कैरियर शुरू किया। यहाँ शुरू में उन्होंने कंपनियों द्वारा प्रदर्शित एकाधिकार या उत्पादक-संघ (कार्टेल) व्यवहार की वैधता निर्धारित करने में वादियों और अभियोजन, दोनों पक्ष के लिए मुकदमेबाजी के मामलों पर काम किया। एक बड़ी परियोजना, जिस पर उन्होंने काम किया वह ट्वेंटी -20 क्रिकेट मैच का गणितीय मॉडल और खिलाड़ी प्रदर्शन सूचकांक उत्पन्न करने पर था।

अरिंदम ने फिर विकास क्षेत्र में जाने का फैसला किया और इंस्टीट्यूट फॉर फाइनेंशियल मैनेजमेंट एण्ड रिसर्च, चेन्नई में, लघु उद्यम वित्त केंद्र में शामिल हो गए। वहाँ उन्होंने छोटे पैमाने पर और गैर औपचारिक वित्तीय संस्थानों में उपभोक्ता व्यवहार का अध्ययन करते हुए 2009 से 2012 तक काम किया। उन्होंने प्रयोगात्मक ऋण और बचत उत्पादों को डिज़ाइन और उनकी निगरानी की, इसका उद्देश्य ऋण जोखिम को कम करना और उल्लेखित संस्थानों की भागीदारी को अधिकतम करना था, जिससे कम आय वाले परिवारों के बीच वित्तीय समावेशन को बढ़ाया जा सके।

आई.आई.एच.एस. में, अरिंदम शोध टीम का एक हिस्सा हैं, जहाँ वे शहरी एटलस के विकास की दिशा में योगदान देते हैं और विभिन्न शहरी सूचना विज्ञान परियोजनाओं को समर्थन प्रदान करते हैं। वे शिक्षण टीम का हिस्सा भी हैं और संस्थान द्वारा चलाए जा रहे कार्यक्रमों में मात्रात्मक विधियां (क्वान्टिटेटिव मेथडस्) पढ़ाने में मदद करते हैं।

 चुनिंदा प्रकाशन:
जना, ए. एण्ड भान, जी (2013) ऑफ स्लम्स और पॉवर्टि। इकोनॉमिक एण्ड पोलिटिकल वीकली XLVIII (18)