दीपक पारेख

Deepak Parekhदीपक पारेख, एचडीएफसी बैंक के चेयरमैन, आईआईएचएस बोर्ड में एक सदस्‍य के रूप में कार्य करते हैं।

शिक्षा:
1944 में जन्‍मे, दीपक ने इंस्‍टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स इन इंग्‍लैंड एंड वेल्‍स (आईसीएईडब्‍ल्‍यू) से चार्टर्ड एकाउंटेन्‍सी किया है।

Career Highlights

दीपक ने न्‍यूयार्क में अर्न्‍स्‍ट एंड यंग मैनेजमेंट कंसल्‍टेंसी सर्विसेज के साथ 1970 में अपने कैरियर की शुरूआत की और एचडीएफसी की स्‍थापना के एक वर्ष बाद 1978 में इसमें उपमहाप्रबंधक के रूप में पद ग्रहण करने से पहले मुम्‍बई में ग्रिंडलेज बैंक और चेस मैनहट्टन बैंक के साथ कार्य किया। वह 1993 में इसके चेयरमैन बन गए। दीपक ने एचडीएफसी को इसकी वर्तमान स्थिति में पहुंचाया जो सिर्फ हाउसिंग फाइनेंस में ही बाजार अग्रणी नहीं है बल्कि बैंकिंग, परिसंपत्ति प्रबंधन, जीवन बीमा, सामान्‍य बीमा और रियल एस्‍टेट वेंचर फंड में उपस्थिति के साथ वित्‍तीय समूह के रूप में भी अग्रणी है।

एचडीएफसी समूह कंपनियों के अलावा, दीपक विविध क्षेत्रों के कई प्रमुख निगमों के बोर्ड में शामिल हैं। वे ग्‍लैक्‍सोस्मिथक्‍लाइन फार्मास्‍युटिकल्‍स, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर डेवलपमेंट फाइनेंस कंपनी (आईडीएफसी), लाफार्ज इंडिया और सीमेंस इंडिया लिमिटेड के गैर कार्यकारी चेयरमैन हैं। वह कैस्‍ट्रॉल इंडिया लिमिटेड, हिन्‍दुस्‍तान यूनीलीवर लिमिटेड, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड, इंडियन होटल्‍स कंपनी लिमिटेड आदि के बोर्डों में और सिंगापुर टेलीकम्‍युनिकेशन्‍स लिमिटेड (सिंगापुर) एवं डब्‍ल्‍यूएनएस ग्‍लोबल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड (यूएसए) के अंतरराष्‍ट्रीय बोर्डों में भी शामिल हैं। दीपक को नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने भारतीय विमानपत्‍तन प्राधिकरण के बोर्ड के लिए भी नामित किया है।

इसके अतिरिक्‍त रियल एस्‍टेट क्षेत्र में मानकीकरण और पारदर्शिता की कोशिश करने के अपने दृष्टिकोण के लिए जाने जाने वाले दीपक ने संकट की स्थिति जैसे 1990 के दशक में यूटीआई और अभी हाल ही में, सत्‍यम, के दौरान निवेशकों का भरोसा बनाए रखने के लिए उपायों की सिफारिश हेतु सरकार के लिए एक सलाहकार के रूप में भी कार्य किया है।

दीपक विभिन्‍न उच्‍च स्‍तरीय आर्थिक समूहों, सरकार द्वारा नियुक्‍त सलाहकार समितियों और कार्य बलों के सक्रिय सदस्‍य हैं जिनमें वित्‍तीय सेवाएं, पूंजी बाजार और बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में सुधार शामिल हैं। इनमें से कुछ हैं, राजीव आवास योजना का मुखिया, भारतीय शहरों को मलिन बस्‍ती मुक्‍त बनाने के तरीके सुझाने की एक समिति, बीएसएनएल की बिगड़ती वित्‍तीय हालत को काबू करने और इसे प्रतिस्‍पर्धी मानकों  के मुताबिक लाने के लिए एक उच्‍च स्‍तरीय समिति की सदस्‍यता, नई पेंशन योजना विशेषज्ञ समूह की अध्‍यक्षता, किफायती आवास पर उच्‍च स्‍तरीय कार्य बल की अध्‍यक्षता, भारत में अधिक से अधिक प्रत्‍यक्ष विदेशी निवेश के लिए निवेश आयोग की सदस्‍यता, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सी एंड एजी) के ऑडिट सलाहकार बोर्ड की सदस्‍यता, और अन्‍य।