हाकेथन

You are here: Home > Platforms > हाकेथन

विश्‍व बैंक के वाटर एंकर और जल एवं स्‍वच्‍छता कार्यक्रम ने इंडियन इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमन सेटलमेन्ट्स और इंडिया वाटर पोर्टल (आईडब्‍ल्‍यूपी) सहयोगियों के साथ वाटर हाकेथन की 21 अक्‍टूबर से 23 अक्‍टूबर 2011 तक मेजबानी की। कार्यक्रम का उद्देश्‍य जल एवं स्‍वच्‍छता क्षेत्र के मुद्दों की चर्चा करने में मदद करने के लिए मोबाइल एप्‍लीकेशनों के प्रारूप विकसित करना है। वाटर हाकेथन विचार-विमर्श और प्रोग्रामिंग की एक गहन मैराथन है, जहां साफ्टवेयर डिवेलपर और डिजाइनर स्‍वच्‍छ पेयजल एवं पर्याप्‍त स्‍वच्‍छता, बाढ़ एवं सूखा तथा पर्यावरणीय प्रदूषण जैसी जल एवं स्‍वच्‍छता की समस्‍याओं के समाधान के लिए नए टूल्‍स तैयार करने के लिए एक साथ कार्य करते हैं।

स्‍थान:
शुक्रवार 21 अक्‍टूबर को इस्‍ता, बैंगलोर में
22- 23 अक्‍टूबर को आईआईआईटी-बी, बैंगलोर, 26/सी, इलेक्‍ट्रॉनिक सिटी, होसुर रोड़ में

बैंगलोर में 21 अक्‍टूबर से 23 अक्‍टूबर तक वाटर हाकेथन आयोजित किया गया। सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार, हेवलेट पैकार्ड, ब्रॉडविजन ग्रुप ऑफ इंडिया, एनजेएस इंजीनियर्स इंडिया और ऑनमोबाइल द्वारा भी कार्यक्रम का समथर्न किया गया।

वाटर हाकेथन बैंगलोर  शुक्रवार 21 अक्‍टूबर को इस्‍ता होटल, बैंगलोर में डिनर कार्यक्रम के साथ शुरू हुआ जिसमें जल क्षेत्र और आईटी क्षेत्र के विशेषज्ञों द्वारा प्रस्‍तुतियां शामिल थीं।  ”नैतिक हैकर्स” की टीमों ने जल क्षेत्र की उन समस्‍याओं की पहचान की, जिन्‍हें वे अपनी पसंद की मोबाइल प्रौद्योगिकी का उपयोग करके पता करना चाहते थे।

हाकेथन शनिवार 22 अक्‍टूबर, 2011 को सूचना प्रौद्योगिकी अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍थान बैंगलोर (आईआईआईटी-बी) के इलेक्‍ट्रॉनिक सिटी परिसर में शुरू हुआ। टीमों ने शनिवार को पूरी रात काम या ”हैक” किया और रविवार 23 अक्‍टूबर, 2011 की दोपहर को अपने समाधानों को नागरिक समाज संगठनों तथा निजी एवं सार्वजनिक क्षेत्रों के प्रतिष्ठित जूरी के सामने प्रस्‍तुत किया।

विजेताओं को आकर्षक पुरस्‍कार प्रदान किए गए और उन्‍हें पूर्ण विकसित एप्‍लीकेशन में अपने समाधान विकसित करने का अवसर प्राप्‍त हुआ।