अनुसंधान की विषयवस्तु

जलवायु परिवर्तन अनुसंधान

जलवायु परिवर्तन हमारे समय के निर्धारक अस्तित्‍व एवं विकास की चुनौतियों में से एक है। सामान्‍य रूप में भारत और विशेष रूप में भारतीय शहर एवं अधिवास संकटग्रस्‍त करोड़ों लोगों के साथ जलवायु प्रभावों के लिए सबसे असुरक्षित हैं।

आईआईएचएस भारत, दक्षिण एशिया और पूरे विश्‍व में जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का सामना करने के लिए अपने संकाय द्वारा मौलिक अनुसंधान एवं नीति वचनबद्धता पर आधारित अत्‍याधुनिक वैज्ञानिक, नीति एवं क्रियान्‍वयन क्षमता का निर्माण करता है।

आगे पढ़ें

अनुसंधानकर्ताः
अंदलीब रहमान
आमिर बशीर बजाज
अरोमर रेवी
चांदनी सिंह
गरिमा जैन
मनीष कुमार गौतम
नेहा सामी
प्राथिजना पूनाचा कोडिरा
ऋत्विका बसु
श्रिया आनंद
सुमिती पाहवा गज्‍जर
तन्वी वी देशपांडे
तेजा मल्‍लाडी

आर्थिक विकास

इन विषयवस्तुओं में अनुसंधान रूचियां, आर्थिक भूगोल से लेकर आर्थिक विकास में भूमि की भूमिका तक विविध मसलों पर केंद्रित हैं। वर्तमान कार्यों में, आर्थिक निवेशों, व नगरीय बस्तियों की स्थानिक वृद्धि के मध्य संबंधों का अन्वेषण, राष्ट्रीय व राज्य रोजगार व आजीविका कार्यक्रमों का विकास, भूमि के अनेक अर्थ, आर्थिक विकास के साधन के रूप में भूमि, तथा उभरते नगरीय स्वरूपों जैसे कि नगरीय औद्योगिक एवं मालवाहक मार्गों, विशेष आर्थिक क्षेत्रों, तथा नए कस्बों का अवलोकन किया जाना शामिल है।

अनुसंधानकर्ताः
अम्लानज्योति गोस्वामी
अमोघ अराकली
अरिंदम जाना
ज्योति कोडुगंटी
कविता वानखेडे
काये लुशिंगटन
नेहा सामी
श्रिया आनंद

पर्यावरण एवं धारणीयता

पर्यावरण पर वर्तमान IIHS अनुसंधान, जलवायु परिवर्तन से लेकर मूल पर्यावरणीय सेवाओं तक अनेक मसलों पर केंद्रित हैं। वर्तमान में किए जा रहे कार्य में, विशेषरूप में नगरीय संदर्भ में जलवायु परिवर्तन एवं आपदा जोखिम न्यूनीकरण का परीक्षण किया जाना शामिल है। अनुसंधानकर्ता, सामान्य संपत्ति एवं साझा प्राकृतिक संसाधनों, पर्यावरणीय प्रशासन, जलापूर्ति के मसले एवं प्रबंधन, तथा नगरीय जनसंख्याओं, विशेषकर नगरीय निर्धनों के लिए जल एवं स्वच्छता सेवाओं के प्राविधान, आदि की धारणाओं का भी अन्वेषण कर रहे हैं। पूर्ववर्ती परियोजनाओं में धारणीयता के दृष्टिकोण से नगरीय व राज्यस्तरीय कार्यक्रमों व नीतियों का मूल्यांकन ाी सम्मिलित किया गया है।

अनुसंधानकर्ताः
अमोघ अराकली
अरोमर रेवी
गरिमा जैन
कविता वानखेडे
नेहा सामी
सुमती पाहवा गज्जर

प्रशासन एवं लोक नीति

IIHS में प्रशासन एवं लोक नीति पर अनुसंधान, व्यापक रेंज तक विस्तृत है। भूमि के प्रशासन के विभिन्न आयामों: इसके अर्जन, विकास, विनियमन, अभिलेखों, व हस्तांतरण में अनेक अनुसंधानकर्ताओं की अभिरूचि है। कार्य किया भी जा रहा है जिसमें संस्थानों पर विशेष रूप से फोकस करते हुए विभिन्न पैमानों पर नगरीय प्रशासन का परीक्षण किया जा रहा है। पर्यावरणीय प्रशासन, अभिरूचि का एक अन्य क्षेत्र है। अनुसंधानकर्ता, न केवल भारतीय संदर्भ में बल्कि वैश्विक रूप से भी विभिन्न पैमानों पर प्रशासन प्रणालियों के बीच अंतर्संबंधों का भी अन्वेषण कर रहे हैं।

अनुसंधानकर्ताः
अम्लानज्योति गोस्वामी
अमोघ अराकली
अरिंदम जाना
अरोमर रेवी
गीतिका आनंद
गौतम भान
कविता वानखेडे
नेहा सामी
श्रिया आनंद
सोमनाथ सेन

मानव विकास

IIHS में अनुसंधानकर्ता, अनेक अंतर्संबंधित (क्रॉस-कटिंग) विषयवस्तुओं में संलग्न हैं जो मानव विकास के विविध आयामों का अन्वेषण करते हैं। वर्तमान कार्यों में, नगरीय समावेशन, नगरीय निर्धनता, शिक्षा, किफायती आवासन, रोजगार एवं आजीविकाएं, सामाजिक सुरक्षा तथा कल्याण कार्यक्रमों, तथा नगरीय हिंसा की परिकल्पनाओं की नई रूपरेखाओं का परीक्षण किया जा रहा है। हमारे जारी पर्यावरणीय अनुसंधान में उल्लेखनीय अतिव्यापन हैं, अधिकांश उल्लेखनीय रूप से जलवायु परिवर्तन व आपदा जोखिम घटोत्तरी का मानव विकास से संबंध तथा भेद्य नगरीय जनसंख्याओं पर इसके प्रभावों से जोड़ने के प्रयास के रूप में हैं।

अनुसंधानकर्ताः
अम्लानज्योति गोस्वामी
अनुश्री देव
अरोमर रेवी
कारिस इडिचेरिया
गरिमा जैन
गौतम भान
श्रिया आनंद

नगरीय प्रणालियां एवं अवसंरचना

नगरीय प्रणालियां एवं अवसंरचना पर जारी अनुसंधान कार्यों में, जलापूर्ति एवं प्रबंधन, स्वच्छता, एवं आवासन शामिल है। प्रशासन तथा लोक नीति एवं, पर्यावरणीय मसलों जैसे कि जलवायु परिवर्तन पर वर्तमान कार्य के संदर्भ में IIHS अनुसंधान में विशेषकर कुछ अतिव्यापन भी हैं। अन्य अनुसंधान कार्य, गतिशीलता एवं नगरीय उपापचय के मसलों का परीक्षण करते हैं।

अनुसंधानकर्ताः
अरोमर रेवी
डी के शिवकुमार
गरिमा जैन
गीतिका आनंद
कविता वानखेडे
एम जे विष्णु
प्रियदर्शिनी जे शेट्‌टी
शशिकला वी
सोमनाथ सेन